संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र में प्रतिभाग करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को चार दिवसीय अमेरिकी यात्रा पर रवाना हो चुके हैं। लेकिन खास बात यह है कि उनका विमान अमेरिका के लिए अफगानिस्तान होते हुए सीधे हवाई क्षेत्र का इस्तेमाल नहीं करेगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पाकिस्तान के हवाई क्षेत्र से होते हुए अमेरिका पहुंचेंगे। इसके लिए पाकिस्तान सरकार की ओर से अनुमति दे दी गई है। माना जा रहा है कि अफगानिस्तान में चल रहे संकट को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। इसके लिए भारत सरकार ने पाकिस्तान से हवाई क्षेत्र के इस्तेमाल की अनुमति मांगी थी, जिस पर उसने हामी भर दी है।

2019 में पाकिस्तान ने किया था इनकार 
इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की विदेश यात्रा के लिए पाकिस्तान अपने हवाई क्षेत्र के इस्तेमाल से इनकार कर चुका है। बता दें, जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटने के बाद पाकिस्तान ने हवाई क्षेत्र के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा दिया था, जिसके बाद भारत ने अंतरराष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन में इसका कड़ा विरोध जताया था और अंतरराष्ट्रीय नियमों के उल्लंघन का आरोप लगाया था। इसके बावजूद भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की श्रीलंका यात्रा के दौरान अपने हवाई क्षेत्र के इस्तेमाल की अनुमति दी थी।

क्वाड सम्मेलन में भी करेंगे प्रतिभाग 
बता दें, संयुक्त राष्ट्र महासभा में विश्व के नेताओं को संबोधित करने से पहले पीएम मोदी क्वाड सम्मेलन में भी हिस्सा लेंगे। इस यात्रा के दौरान वे अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन से भी मुलाकात करेंगे। इस सप्ताह होने वाली महत्वपूर्ण बैठकों में प्रतिभाग करने के लिए भारत का दल अमेरिका पहुंच रहा है। इसमें एनएसए अजीत डोभाल, विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला के साथ कई अधिकारी शामिल हैं।

Leave a Reply