यूक्रेन संकट के बीच फंसे भारतीयों को भारत वापस लाने के लिए कोशिश लगातार चल रही है। जानकारी के अनुसार एयर इंडिया की फ्लाइट 182 और भारतीय नागरिकों को लेकर गुरुवार की सुबह दिल्ली पहुंच गई है। भारत में यूक्रेन इंटरनेशनल एयरलाइंस के एक अधिकारी ने जानकारी देते हुए कहा कि यूक्रेन इंटरनेशनल एयरलाइंस (यूआईए) की एक स्पेशल फ्लाइट छात्रों सहित 182 भारतीय नागरिकों के साथ गुरुवार सुबह 7:45 बजे दिल्ली हवाई अड्डे पर लैंड हुई। ऐसे में साफ देखा गया की यूक्रेन से लौटे कई भारतीय छात्र दिल्ली एयरपोर्ट पर मीडिया से मुखातिब हुए। इस दौरान उनके चेहरे पर डर का भाव साफ दिख रहा था। एक छात्र ने बताया कि कल रात हमें यूक्रेन में 30 दिनों के लिए आपातकालीन स्थिति के बारे में एक संदेश मिला, इसलिए हम घर वापस आ गए। वहीं एक छात्रा ने बताया कि जहां मैं रह रही थी फिलहाल वहां स्थिति ठीक है क्योंकि यह जगह सीमा से बहुत दूर है। लेकिन हमारे दूतावास ने हमें जाने के लिए कहा, एडवाइजरी जारी होने के बाद हमलोग वापस आ गए। वहीं रूसी राष्ट्रपति पुतिन द्वारा यूक्रेन में सैन्य कार्रवाई के आदेश के बीच अब भारत ने भी संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अपना पक्ष रखा है। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टी.एस. तिरुमूर्ति ने कहा कि हम तत्काल युद्ध टालने की अपील करते हैं, स्थिति एक बड़े संकट में तब्दील होने के कगार पर है। अगर इसे सावधानी से नहीं संभाला जाता तो यह सुरक्षा को कमजोर कर सकता है। सभी पक्षों की सुरक्षा को ध्यान में रखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम सभी पक्षों से संयम बरतने का आह्वान करते हैं। हमें विश्वास है कि इस मुद्दे को केवल राजनयिक बातचीत के माध्यम से हल किया जा सकता है।रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन में सैन्य कार्रवाई के आदेश दे दिए हैं। आदेश जारी करते हुए पुतिन ने कहा कि अगर यूक्रेन पीछे नहीं हटता है तो जंग होकर रहेगी। पुतिन ने यूक्रेनी सेना को धमकी देते हुए कहा कि जल्द से जल्द हथियार डाल दें नहीं तो युद्ध को टाला नहीं जा सकता है।रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने कहा है कि जो कोई भी हमारे देश और हमारे लोगों के लिए खतरे पैदा करने की कोशिश करता है, उसे पता होना चाहिए कि रूस की प्रतिक्रिया तत्काल होगी और आपको ऐसे परिणामों की ओर ले जाएगी जैसा आपने अपने इतिहास में पहले कभी अनुभव नहीं किया है।

Leave a Reply