राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने गुरुवार को राज्यसभा में बड़ा बयान दिया। उन्होंपे बताया कि प्रवर्तन निदेशालय ने संसद के मानसून सत्र की चल रही कार्यवाही के बीच उनके खिलाफ समन जारी किया है। उन्होंने केंद्र सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी को डराने-धमकाने की कोशिश कर जा रही है। केंद्र सरकार कांग्रेस से डरी हुई है।

ईडी ने नेशनल हेराल्ड से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में खड़गे को पेश होने को कहा है। कर चोरी के मामले में पार्टी नेता सोनिया गांधी और राहुल गांधी से पहले ही पूछताछ की जा चुकी है। खड़गे ने राज्यसभा के प्रश्नकाल सत्र के दौरान यह बात कही।

उन्होंने बताया कि मुझे ईडी का समन मिला, उन्होंने मुझे दोपहर 12.30 बजे बुलाया। मैं कानून का पालन करना चाहता हूं, लेकिन क्या संसद सत्र के दौरान उन्हें समन करना सही है? क्या पुलिस के लिए सोनिया गांधी और राहुल गांधी के आवासों का घेराव करना सही है? वे हमें (कांग्रेस) डराने के लिए जानबूझकर ऐसा कर रहे हैं। हम डरेंगे नहीं, हम लड़ेंगे।

खड़गे पर प्रतिक्रिया देते हुए राज्यसभा में सदन के नेता पीयूष गोयल ने कहा कि केंद्र का इससे कोई लेना-देना नहीं है। गोयल ने कहा कि सरकार कानून प्रवर्तन अधिकारियों के काम में हस्तक्षेप नहीं करती है। शायद उनके कार्यकाल के दौरान जब उनकी सरकार थी, वे हस्तक्षेप कर रहे थे। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कानून प्रवर्तन एजेंसियां अपना काम कर रही हैं और उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई कर रही हैं, जिन्होंने कुछ भी गलत किया है।

इससे पहले प्रवर्तन निदेशालय ने कांग्रेस के स्वामित्व वाले नेशनल हेराल्ड के परिसर में यंग इंडियन का दफ्तर बुधवार को अस्थाई रूप से सील कर दिया था। सूत्रों के मुताबिक, सबूतों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए यह कार्रवाई की गई थी। केंद्रीय एजेंसी ने कहा था कि यंग इंडियन के कार्यालय को ईडी की बिना पूर्व अनुमति के खोला नहीं जा सकता। ईडी के अधिकारियों ने कहना था कि छापेमारी की वक्त यंग इंडिया कार्यालय में कोई मौजूद नहीं था। ऐसे में उसकी जांच पूरी नहीं हो सकी थी।

दिग्विजय सिंह ने साधा निशाना
इस बीच कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा कि लोकतंत्र के इतिहास में ऐसा कभी नहीं हुआ है कि जब संसद का सत्र चल रहा हो तो किसी जांच एजेंसी द्वारा विपक्ष के नेता को तलब किया जाता है। अगर मल्लिकार्जुन खड़गे को तलब करना होता, तो यह सुबह 11 बजे से पहले या शाम 5 बजे के बाद किया जा सकता था। मोदी जी इतने डरे हुए क्यों हैं? महंगाई के मुद्दे को उठाने के लिए कांग्रेस के सभी सांसद कल राष्ट्रपति भवन तक मार्च करेंगे।

तेजस्वी ने भी साधा निशाना
इस बीच राजद नेता और बिहार एलओपी तेजस्वी यादव ने कहा कि चाहे ईडी हो, सीबीआई हो, आईटी हो, दुर्भाग्य से वे बीजेपी के सेल के रूप में काम करते हैं। ये संवैधानिक जांच एजेंसियां बीजेपी के लिए खिलौने की तरह हैं। यह दुखद है कि ऐसी सभी एजेंसियां इतने दबाव में काम कर रही हैं कि निष्पक्ष जांच भी नहीं हो पा रही है।

हम किसी से नहीं डरते: तेजस्वी
उन्होंने कहा कि हम किसी जांच से नहीं डरते। हम इन एजेंसियों को याद दिलाना चाहते हैं- विजय माल्या, नीरव मोदी और मेहुल चोकसी कहां हैं। कोई उन्हें ढूंढ नहीं रहा है, वे केवल टीएमसी, कांग्रेस, आरजेडी, एसपी के लोगों को ढूंढते हैं। वे दो तरह से काम करते हैं – खरीदो जो बिकता है और डराओ जो डरता है।

Leave a Reply