महाराष्ट्र में कुर्सी छिनने के बाद भी शिवसेना की मुश्किलें कम नहीं हो रही हैं। नेताओं के टूटने का दौर अब भी जारी है। ताजा जानकारी के मुताबिक अब पूर्व नेता प्रतिपक्ष और मंत्री रहे रामदास कदम ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है।इससे पहले उनके बेटे और विधायक योगेश कदम भी शिंदे खेमे में शामिल हो गए थे।

रत्नागिरी में खेड़ विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक राम कदम शिवसेना के उन कई बागी नेताओं में शामिल हैं, जिन्हें शहरी विकास मंत्री एकनाथ शिंदे का पक्ष लेते देखा गया है। रामदास कदम का पिछले महीने परिवहन मंत्री अनिल परब के साथ अनबन हो गई थी और उन्होंने शिवसेना में दरकिनार किए जाने की शिकायत की थी। वहीं ऐसी अटकलें थीं कि परब के साथ विवाद के बाद कदम शिवसेना छोड़ देंगे, उन्हें पार्टी सांसद और प्रवक्ता संजय राउत से मिलने के बाद मना लिया गया था।

कभी शिवसेना के साथ आखिरी सांस तक साथ रहने की बात कही थी
बता दें कि कुछ दिन पहले रामदास कदम ने कहा था कि मैं आखिरी सांस तक शिवसेना के साथ हूं। मैं शिवसेना और सीएम उद्धव ठाकरे का समर्थन करता रहूंगा। यह सच है कि मेरे बेटे योगेश कदम को मतदाताओं की मांगों और उम्मीदों के कारण पार्टी नेतृत्व से कुछ शिकायतें हैं, लेकिन मैं शिवसेना को नहीं छोड़ूंगा।

शिवसेना के नोटिस में शिंदे और रामदास कदम का नाम नहीं
शिवसेना की कार्यकारी समिति ने जहां 16 बागी विधायकों को कारण बताओ नोटिस जारी कर 48 घंटे में जवाब मांगा है, वहीं बागी नेता एकनाथ शिंदे और रामदास कदम सूची में शामिल नहीं हैं।

Leave a Reply