ग्वालियर नगर निगम का आज वित्तीय वर्ष 2022-23 का बजट पेश किया गया, इस मौके पर ग्वालियर संभाग के कमिश्नर एवं नगर निगम प्रशासक आशीष कुमार सक्सेना और नगर निगम आयुक्त किशोर कुमार कन्याल मौजूद रहे। वित्तीय वर्ष 2022-23 मैं कुल 1388 करोड़ों रुपए का बजट प्रावधान किया गया है जिसमें 3 लाख 27हजार रुपये की शुद्ध लाभ अर्जित करने का उद्देश भी रखा गया है। बजट मैं स्पष्ट किया गया है कि निगम वित्तीय वर्ष 2022-23 में 1388 करोड़ 29 लाख 43 हजार की आय अर्जित करेगी जिसमें से 1368 करोड़ 73 लाख 7 हजार रुपए का व्यय होगा। इसके अलावा 19 करोड़ 53 लाख 8 हजार 400 रुपए जोकि राजस्व आय का 5% है जिसे रक्षित निधि का प्रावधान किया गया है। नगर निगम के इस बजट में शहर वासियों के लिए सबसे खास बात यह है कि इस बार कोई नया कर नहीं लगाया गया है लेकिन राजस्व वसूली का लक्ष्य बढ़ाकर 369 करोड़ रुपए किया गया है। जबकि वित्तीय वर्ष 2020-21 में राजस्व आय 107 करोड़ रुपए रही थी वही वित्तीय वर्ष 2021-22 में संभावित राजस्व लक्ष्य 170 करोड रुपए रखा है। ऐसे में इस बजट के माध्यम से नगर निगम ज्यादा से ज्यादा कर वसूली अभियान को मजबूती देगा ताकि उससे अर्जित होने वाली आय के जरिए शहर का सौंदर्य करण और विकास आगे बढ़ाया जा सके। निगम के इस बजट में खासतौर पर 1सोलर ऊर्जा को प्रोत्साहित करने के साथ ही भूजल स्तर को सुधारने पर विशेष योजना तैयार की गई है। साथ ही प्रमुख मार्गों को सुगम यातायात के लिए नवीन सड़कों का निर्माण, पेयजल आपूर्ति के लिए चंबल नदी और कोतवाल बांध से अपर ककेटो तक, ककेटो-पहसारी से तिघरा जलाशय मैं पानी लाने के लिए अमृत योजना फेस-2 के कार्य में गति लाने के लिए भी योजना तैयार की गई है नगर निगम के बजट में गौशाला में बायो सीएनजी प्लांट निर्माण के लिए भी बजट का प्रावधान किया गया है। इसके अलावा प्रधानमंत्री आवास योजना, बायोचलित शौचालय के साथ शहर को स्वच्छ बनाने और कचरे का रीसायकल करने की व्यवस्था के लिए भी प्रावधान हुआ है। निगम प्रशासक के साथ निगमायुक्त ने इस बजट को ग्वालियर के भविष्य का सुनहरा बजट बताया है।

Leave a Reply