देश की पहली महिला आदिवासी राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के खिलाफ कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी की अशोभनीय टिप्पणी को लेकर आज लोकसभा में जमकर हंगामा हुआ। सदन की कार्यवाही के दौरान करीब चार मिनट तक केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस को जमकर घेरा। उन्होंने चार बार सोनिया गांधी का नाम लिया और कहा कि उन्हें देश से माफी मांगनी चाहिए। इसके बाद लोकसभा की कार्यवाही दोपहर चार बजे तक के लिए स्थगित हो गई, लेकिन हंगामा यहीं नहीं थमा। कार्यवाही स्थगित होने के बाद भी सदन के अंदर भाजपा और कांग्रेस सांसदों के बीच तीन मिनट तक जुबानी जंग होती रही। जानिए, आखिर लोकसभा में हुआ क्या…

पहले जानिए कि कांग्रेस का दावा क्या है?
कांग्रेस सांसद गीता कोड़ा ने एक चैनल से बातचीत में कहा, ”जब सदन स्थगित कर दिया गया, उसके बाद हम सभी बाहर जाने लगे। तभी भाजपा के सभी सांसद सोनिया जी का नाम लेकर चिल्लाने लगे। इतने में सोनिया जी वापस लौटीं। वे महिला सांसदों से बात करना चाहती थीं और वे सांसद रमा देवी के पास गईं। तभी भाजपा के सभी सांसद सोनिया जी पर चिल्लाने लगे कि आपको माफी मांगनी चाहिए। वे उंगली दिखा-दिखाकर उनके बारे में बातें कह रहे थे। स्मृति जी कह रही थीं कि सोनिया जी मेरे खिलाफ बहुत बोलती हैं। जिस तरह वहां बर्ताव हो रहा था, हमें तो लगा जैसे हम पर थोड़ी देर में हमला ही हो जाएगा। बाद में हमने बीच-बचाव कर सोनिया जी को वहां से निकाला। सोनिया जी तो कुछ बोल भी नहीं पाईं। महिला तो महिला, पुरुष सांसद भी उन पर चिल्लाने लगे। एक वरिष्ठ नेता के साथ बात करने का तरीका भी इन लोगों को नहीं मालूम है। लोकतंत्र के मंदिर में महिला सांसद से इस तरह का बर्ताव होना क्या उचित है? बातचीत से रास्ता निकल सकता था, लेकिन ये लोग हमें सदन में बोलने नहीं दे रहे।”

अब जानिए सत्ता पक्ष ने इस बारे में कया कहा?

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, ”सदन में जब श्रीमती सोनिया गांधी जी ने हमारी वरिष्ठ महिला सांसद रमा देवी से आकर बात की, तब एक और सांसद ने बगल में आकर पूछा कि क्या बात हो रही है? तब सोनिया जी ने एकदम से कहा कि यू डोन्ट टॉक टू मी। सोनिया जी ने लगभग धमकाने वाले लहजे में दूसरे सांसद से बात की। पहली बात तो यह कि उन्होंने राष्ट्रपति के बारे में की गई टिप्पणी के लिए माफी नहीं मांगी। दूसरी बात यह कि उन्होंने गुमराह किया और तीसरी बात यह कि उन्होंने बाकी सांसदों के लिए धमकाने वाले अंदाज में बात की। एक तो वे माफी नहीं मांग रहीं, बल्कि धमका रही हैं। सोनिया जी बाहर आएं और गरिमामय तरीके से माफी मांगें। कांग्रेस की सर्वोच्च नेता ने सदन में आक्रामकता दिखाई है।”

मीडिया रिपोर्ट्स में क्या दावा किया जा रहा है?
मीडिया रिपोर्ट्स में सूत्रों के हवाले से यह दावा किया जा रहा है कि सदन की कार्यवाही स्थगित होने के बाद सोनिया गांधी सत्ता पक्ष की बेंच की तरफ जाने लगीं। उन्होंने भाजपा सांसद रमा देवी की ओर रुख किया और उनसे कहा कि जब हमारे नेता अधीर रंजन चौधरी माफी मांग चुके हैं तो मेरा नाम क्यों लिया जा रहा है? तभी स्मृति ईरानी नजदीक आईं और कहा, ”मैडम, क्या मैं आपकी मदद कर सकती हूं? मैंने ही आपका नाम लिया था।” इस पर सोनिया ने स्मृति से कहा, ”डोन्ट टॉक टू मी।” इसके बाद तृणमूल कांग्रेस के सांसदों और राकांपा सांसद सुप्रिया सुले सोनिया गांधी को दूर ले गईं। केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने भी मामला शांत करने की कोशिश में बीच-बचाव किया।

अधीर रंजन क्या बोले?
संसद के अंदर हंगामे के बाद अधीर रंजन चौधरी ने कहा, ”मैं राष्ट्रपति का अपमान करने के बारे में सोच भी नहीं सकता। वह एक गलती थी। अगर राष्ट्रपति को बुरा लगा हो तो मैं उनसे जाकर मिलूंगा और माफी मांगूंगा। वे चाहें तो मुझे फांसी पर चढ़ा दें। मैं सजा भुगतने को तैयार हूं, लेकिन इस मामले में सोनिया जी को क्यों घसीटा जा रहा है?”
नोकझोंक से ठीक पहले स्मृति ईरानी ने यह बयान दिया, चार बार सोनिया गांधी का नाम लिया
केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने लोकसभा में कहा, ”इस राष्ट्र का यह गौरव है कि आदरणीय नरेंद्र भाई मोदी ने 75 साल की आजादी में पहली बार एक आदिवासी महिला को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया। उम्मीदवार बनते ही वे कांग्रेस नेताओं की घृणा का केंद्र बन गईं। कांग्रेस के पुरुष नेताओं ने उनके बारे में टिप्पणियां कीं और कल कांग्रेस के नेता ने उन्हें अपमानित किया। कांग्रेस पार्टी आदिवासी महिला को मिला सम्मान पचा नहीं पा रही। गरीब परिवार की बेटी देश की राष्ट्रपति बने, यह कांग्रेस पार्टी पचा नहीं पा रही। …आदिवासी विरोधी कांग्रेस, महिला विरोधी कांग्रेस, गरीब विरोधी कांग्रेस। सशस्त्र बलों के सर्वोच्च कमांडर का भी कांग्रेस अपमान करती है। आज कांग्रेस की मुख्य नेता विराजमान हैं, मैं उनसे पूछना चाहती हूं कि आपकी स्वीकृति से द्रौपदी मुर्मू का अपमान किया गया? आपकी स्वीकृति से देश की आदिवासी विरासत का अपमान हुआ। सोनिया जी की स्वीकृति से सर्वोच्च संवैधानिक पद पर बैठी महिला का अपमान किया गया। सोनिया जी की स्वीकृति से उस गरीब महिल का अपमान हुआ जो आज सर्वोच्च पद तक पहुंचीं हैं। सोनिया गांधी आप इस देश से माफी मांगो, आदिवासियों से माफी मांगो। सोनिया गांधी इस देश से आप माफी मांगो, इस देश की औरतों से माफी मांगो।”
कांग्रेस का सवाल- क्या स्पीकर निंदा करेंगे?
इस हंगामे के बाद कांग्रेस भी स्मृति ईरानी के खिलाफ मुखर हो गई है। कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा कि आज लोकसभा में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने अमर्यादित और अपमानजनक व्यवहार किया। लेकिन क्या स्पीकर इसकी निंदा करेंगे? क्या नियम सिर्फ विपक्ष के लिए होते हैं?

Leave a Reply