मध्य प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के मतदान का शुक्रवार को तीसरा और आखिरी चरण है। वोटिंग सुबह सात बजे से शुरू हुई, जो तीन बजे तक चलेगी।
तीसरे चरण में 39 जिलों की 92 विकासखंडों की 6,607 ग्राम पंचायतों में वोटिंग हो रही है। आखिरी चरण में एक करोड़ 13 लाख 11 हजार 479 वोटर ‘गांव की सरकार’ चुनेंगे।
वोटिंग को लेकर मतदाताओं में उत्साह दिख रहा है।

मुरैना में गड़बड़ियां न हो, इसलिए बुलडोजर के साथ फ्लैग मार्च
मुरैना में उपद्रव को लेकर आगाह करने के लिए प्रशासन ने अनूठा रास्ता निकाला। उन्होंने बुलडोजर के साथ फ्लैग मार्च निकाला।
संदेश साफ है कि अगर उन्होंने किसी तरह का उपद्रव किया तो यह बुलडोजर उनके अवैध मकानों को ध्वस्त कर देंगे। मुरैना में इससे पहले हुए मतदान में उपद्रव हुआ था।
तहसीलदार समेत छह लोग घायल हुए थे। प्रशासन को बुलडोजर चलाना पड़ा था।

शुजालपुर में सहायक पीठासीन अधिकारी की मौत
शुजालपुर में सहायक पीठासीन अधिकारी राधेश्याम डडानिया की हार्ट अटैक से मौत हो गई। रात दो बजे तबियत बिगड़ने पर उन्हें सिटी सिविल अस्पताल ले गए।
वहां उन्हें मृत घोषित किया गया। वहीं दमोह में मतदानकर्मी अशोक कुमार झारिया को सोते समय एक सांप ने डंस लिया।

मतदाता पंच, सरपंच, जनपद और जिला पंचायत सदस्य के भाग्य का फैसला करेंगे। एक मतदाता चार वोट डाल रहे हैं। दोपहर तीन बजे तक वोटिंग होगी।
इसके बाद काउंटिंग शुरू हो जाएगी। जबकि परिणाम की घोषणा 14 जुलाई को होगी। पोलिंग बूथ पर 40 हजार पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगी है।
कुल 20 हजार 608 पोलिंग बूथ पर मतदान हो रहा। इनमें से 3,059 बूथ संवेदनशील हैं।

तीसरे चरण में जिला पंचायत सदस्य के 243, जनपद पंचायत सदस्य के 1,955, सरपंच के 6,607 और पंच के 1 लाख 5 हजार 293 पद हैं।
इनमें से कुछ पदों पर निर्विरोध निर्वाचन से जिला पंचायत सदस्य के 242, जनपद पंचायत सदस्य के 1916, सरपंच के 6,408 और पंच के 22,378 पद के लिए निर्वाचन होगा।
पंच के 14 हजार 699 पदों पर कोई नाम-निर्देशन पत्र प्राप्त नहीं हुए है।

Leave a Reply